Sunday, August 29, 2010

वो हसीन "स्वप्ना "


हडबडा कर कुछ इस तरह से नींद उडी कि जैसे किसी तूफ़ान का आगाज़ हुआ हो.. अभी आँखे खुली ही नहीं थी कि  स्मृतिपटल पर कुछ धुंधले दृश्य उभर रहे थे, जो शायद मुझे कुछ कहना चाहते थे..  जब आँख बंद कर फिर से सोचा तो मुझे वो ख्वाब दिख रहा था जो अब इतिहास बन चुका था.. खैर, आपको उन लम्हों से रूबरू कराता हूँ जब मैं आँखे मूँद कर कुछ सोचने लगा था.. 

"रात गुज़र गयी उन् सूरमायी आँखों में,
ख्वाब देखे हसीन उन बचीखुची यादों में..
होश में थे या थे बेहोश, बस बेखबर से थे,
जाने कैसे जग रहे थे सुन्न पड़ी धडकनों में..
जिस्म ना मिले तो क्या, वो रूहानी मिलन थे,
बिना छुए भी उनका स्पर्श है मेरी चाहतों में..
काज़ल से तर पलकें तड़प रही थी अंधेरों में,
जुगनू चिराग जला रहे थे हमारी तन्हा राहों में..
फुलवारी की महक से ज्यादा मदहोश थी  वो, 
बनवारी की बंसी सा नशा था उन खुशबुओं में...!!"

बस इतने में मुझे उस alarm की आवाज़ ने फिर से उठने को मजबूर कर दिया.. और वो चौथे पहर के  स्वप्ना  को फिर से याद करने की कोशिश में लग गया...!!!


14 comments:

  1. sahi bhai
    bilkul aisa hi kayi baar hua hai
    sapne bhi kahan kahan leke chale jaten hai
    heart touching lines :)

    ReplyDelete
  2. Kanu.. Bahut achha likhte hai aap..
    aapki poem me mera naam bhi aaya hai :)
    itni khubsoorati se ye word use kiya hai..
    infinite like.. :D

    ReplyDelete
  3. i guess sirf naam hi nahi aaya hai.. it has been written for you .. ;)

    ReplyDelete
  4. Bahut hi achha likha hai :)
    Carrying on what Vipul mentioned,
    Note the use of "स्वप्ना" instead of "स्वप्न" ;)

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति के प्रति मेरे भावों का समन्वय
    कल (30/8/2010) के चर्चा मंच पर देखियेगा
    और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. spnaa achchaa he spne dekhnaa achchi bat he lekin bure spnon ko bhul jaana achche spnon ko saakar krne ki tmnna to dil men rkhnaa hi pdhegi. akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  7. Poems are sometime so beautiful that you r short of words to write a comment on them....bole to "BHAVNA ko samjho,SABDO me mat jaaoo"

    ReplyDelete
  8. thnx a lot to all..
    @ayush nd vip.. feeling par jao, faaltu baato par nahi. :P

    ReplyDelete
  9. beautiful poem. I appreciate !

    ReplyDelete